Tuesday, August 3, 2010

गालियाँ प्रसिद्ध बनाती है?










बिभूति नारायण राय ने


"छिनाल" शब्द का

प्रयोग कर दिया,

और रातो रात

अपने आप को

प्रसिद्ध कर दिया.

पहली बार टी.वी में

राहुल महाजन नहीं बल्कि ,

साहित्य में चर्चा हो रही थी.

कुछ महिलाएं

न्यूज़ चैनेल में रो रही थी.

कि इस राय ने

बहुत घृणित काम किया है

अपने एक लेख में

औरतों को एक

नया नाम दिया है.

हमने सोचा लो

एक छोटे से शब्द ने

राय को काबिल बना दिया.

अक्ष के छितिज को

साहिल बना दिया.

अब अगर प्रसिद्ध होना है,

तो तुम गालियाँ लिखो.

और जितना चाहते हो उतना

साहित्य के बाज़ार में बिको.

पर भाई हम चांसलर नहीं है,

जो किसी पत्रिका में

लेख लिख सके.

और ना ही ब्लागस्पाट में

मेरे इतने पढने वाले है

जो हम भी

चर्चा मंच में दिख सके.

हमें तो कमेन्ट भी

तब मिलते है जब

हम दूसरो को दे आते है.

और क्या पता वो भी

हमारा बदला चुकाने को,

बिना पढ़े "बहुत सुन्दर"

लिख कर चले जातें है.

16 comments:

Jandunia said...

कुलपति का बयान निश्चित रूप से साहित्यप्रेमियों में आक्रोश भरता है। कुलपति को ऐसे शब्दों से परहेज करना चाहिए था। कुलपति के मुताबिक यदि साहित्य का स्तर गिरा था तो उन्होंने गाली देकर तो मर्यादा ही तार-तार कर दी।

lokendra singh rajput said...

ये प्रसिद्ध नहीं बल्कि कुख्यात हो गए है... वैसे मरे शहर में इस समय पुस्तक मेला लगा है... इनके इस कांड के कारन ज्ञानोदय खूब बिक रही है.....

विजयप्रकाश said...

एक शेर की कुछ पंक्तियां याद आ रही है
"बदनाम होंगे तो क्या नाम न होगा"

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ said...

एक बेहतरीन रचना
काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन
बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्तिक्या कहने साहब
जबाब नहीं निसंदेह
यह एक प्रसंशनीय प्रस्तुति हैमजा आ गया
जितनी तारीफ़ की जाय कम हैsatguru-satykikhoj.blogspot.com

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...
This comment has been removed by a blog administrator.
anoop joshi said...

@ sangeeta ma'm aapki salah sar aankho par. proceed.........

Sonal said...

behtreen rachna....

Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

A Silent Silence : Naani ki sunaai wo kahani..

Banned Area News : Now, use Botox to zap that horrendous migraine

Vidhu said...

अभिव्यक्ति सुन्दर और कुछ सोचने को मजबूर करती है

अनामिका की सदायें ...... said...

में सिर्फ बहुत सुंदर कहने नहीं आई हूँ. लेकिन ये सच में बहुत अच्छा लिखा हें तो क्या कहूँ.
अभी किसी को मैंने कमेन्ट दिया था इसी छिनाल शब्द पर की आज तक सुना था एक सफल पुरुष के पीछे एक स्त्री की हाथ होता है. लेकिन अब देख रहे हैं की लोग अपनी पुब्लिसिटी के लिए स्त्री को केन्द्र बिंदु बना कर कुछ भी कहने से नहीं चूकते लेकिन उका उद्देश्य पूरा हो जाता हें ना पुब्लिसिटी का.

योगेन्द्र मौदगिल said...

sampratik kavita......aapne sahi samay par apne bhavon ko abhivyakt kiya...sadhuwaad...

HUMMING WORDS PUBLISHERS said...

Get your book published.. become an author..let the world know of your creativity. You can also get published your own blog book!

www.hummingwords.in

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मंगलवार 17 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ....आपका इंतज़ार रहेगा ..आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ... आभार

http://charchamanch.blogspot.com/

shikha varshney said...

मैं आई तो थी आपका शुक्रिया अदा करने ही :) पर सच तो यह है कि वाकई बहुत अच्छा लिखा है आपने सच को बहुत सहजता से और खूबसूरती से उकेरा है .

anoop joshi said...

lo gali ke bare me likhne par me bhi prashid ho gaya.....

RAJWANT RAJ said...

anoop ji
ye gltfhmi aap mn se nikal do ki galiya prsiddh bnati hai our aapki is post ko dekhne kebad aap prsiddh hogye
bhai ! aapko phle bhi log mn se mnn krte the our aage bhi mn se mnn krenge kyo ki aapme apni bat khne ka bhrpoor madda hai our aap bhut achchha likhte hai . ek safgoi hai aapke lekhn me.isi disha me aage bdte rhiye aap jis uchai ko chhoona chahte hai usme jroor sfl honge .
shubhkamnao shit .

RAJWANT RAJ said...

anoop ji
ye gltfhmi aap mn se nikal do ki galiya prsiddh bnati hai our aapki is post ko dekhne kebad aap prsiddh hogye
bhai ! aapko phle bhi log mn se mnn krte the our aage bhi mn se mnn krenge kyo ki aapme apni bat khne ka bhrpoor madda hai our aap bhut achchha likhte hai . ek safgoi hai aapke lekhn me.isi disha me aage bdte rhiye aap jis uchai ko chhoona chahte hai usme jroor sfl honge .
shubhkamnao shit .